उत्‍तर प्रदेश राज्य बीज प्रमाणीकरण संस्था

उ० प्र० सरकार के अधीनस्थ स्वायतशासी संस्था

परिचय

कार्य एवं कर्तव्य

अधिनियम द्वारा प्रमाणन अभिकरण को न्यस्त कृत्यों के अतिरिक्त अभिकरण

  • किन्ही अधिसूचित किस्मों या उपकिस्मों के बीजों को प्रमाणित करेगा।
  • आवेदन देने की प्रक्रिया की और प्रमाणन के लिए आशयित बीजों के उगाने, काटने, प्रसंस्कृत करने, संगृहीत करने और उनपर लेबल लगाने की अन्त तक की प्रक्रिया की रूपरेखा इस बाबत आश्वस्त होने के लिए बनायेगा कि अन्तिम रूप से प्रमाणन के लिए अनुमोदित बीजों की लाट सही उप किस्म के है और अधिनियम या इन नियमों के अधीन प्रमाणन के लिए विहित स्तरों के है।
  • प्रमाणन के लिए आवेदन की प्राप्ति पर यह सत्यापित करेगा कि उप किस्म प्रमाणन का पात्र है, कि रोपण के लिए उपयोग में लाया गया बीज स्त्रोत अधिप्रमाणीकृत था और क्रय का अभिलेख इन नियमों के अनुसार है तथा फीस संदत्त कर दी गयी है।
  • नमूना लेगा और प्रमाणन अभिकरण द्वारा अधिकथित प्रक्रियाओं के अधीन उत्पादित बीज लाटों का निरीक्षण करेगा और ऐसे नमूनों का परीक्षण यह सुनिश्चित करने के लिए करायेगा कि बीज प्रमाणन के विहित मानकों के अनुरूप है।
  • यह सुनिश्चित करेगा कि सभी प्रक्रमों में उदाहरणार्थ खेतों का निरीक्षण बीज प्रसंस्करण संयन्त्र का निरीक्षण लिए गये नमूनों का विश्लेषण और प्रमाण पत्रों (जिनके अन्तर्गत टैग, चिन्ह, लेबल और मुद्रायें आती हैं) के दिये जाने में कार्यवाही शीघ्र की जाये।
  • प्रमाणित बीजों के उपयोग में अभिवृद्धि करने के लिए बनाये गये शैक्षणिक कार्यक्रमों को जिसमें प्रमाणित बीज उगानें वालो और प्रमाणित बीज के स्त्रोत की सूची का प्रकाशन भी आता है कार्यान्वित करेगा।
  • अधिनियम और इन नियमों के उपबन्धों के अनुसार प्रमाण पत्र (जिनके अन्तर्गत टैग, चिन्ह, लेबल और मुद्रायें आती हैं) देगा।
  • ऐसे अभिलेख रखेगा जो यह सत्यापित करने के लिए आवश्यक हो कि प्रमाणित बीज के उत्पादन के लिए बीज पादप इन नियमों के अधीन ऐसे रोपण के योग्य थे।
  • यह सुनिश्चित करने के लिए खेतों का निरीक्षण करेगा कि विलगन अवॉछित पौधों के निष्कासन (जहॉ लागू हो) नर बॉझ पन के उपयोग (जहॉ लागू हो) और समान बातों के लिए न्यूनतम मानक सभी समय बनाये रखे जाते हैं और यह भी सुनिश्चित करेगा कि खेत में बीज जनित रोग उस सीमा विस्तार से अधिक विस्तार में मौजूद नहीं है जो प्रमाणन के लिए मानकों में उपबंधित है।

अपील

  • कोई व्यक्ति, जो प्रमाणन अभिकरण की धारा 9 या धारा 10 के अधीन के विनिश्चय से व्यथित हो, उस तारीख से 30 दिन के भीतर जब उसे वह विनिश्चत संसूचित किया जाए, और उसी फीस के संदाय पर जो विहित की जाय, ऐसे प्राधिकारी को अपील कर सकेगा जो राज्य सरकार द्वारा इस निमित्त विनिर्दिष्ट किया जाए। परन्तु यदि अपील प्राधिकारी का समाधान हो जाए कि समय के भीतर अपील फाइल करने में अपीलार्थी पर्याप्त हेतुक से निवारित हुआ तो वह तीस दिन की उक्त कालावधिक के अवसान के पश्चात भी अपील ग्रहण कर सकेगा।
  • उपधारा (1) के अधीन अपील प्राप्त होने पर अपील प्राधिकारी अपीलार्थी को सुनवार्इ का अवसर देने के पश्चात् यथासम्भव शीघ्रता के साथ निपटाएगा।
  • अपील प्राधिकारी का इस धारा के अधीन हर आदेश अन्तिम होगा।